कन्ज्वा–कप्वा खाकफे पह्र परलः चौधरी

थारु कल्याणकारिणी सभाके कन्द्रीय कोषाध्यक्ष एवं वेस नेपाल संस्थाके कार्यकारी निर्देशक चूर्णबहादुर चौधरी कठ–‘हमार थारु समुदायम पह्राइके महत्व निबुझ्क विचम पह्राइ छोर्ना कर्ठि, जौन हमारलाग बहुट घातक हो ।, हमार पुर्खाहुक्र पह्र नैपलक् कारण आज हम्र और समुदायके मनैनसे बहुट पाछ पच्गुरल बाटि ।’ ‘उहमार हम्र आपन लर्कापर्कन पह्रैनाम जोर करी ओ पहर्टि रलक भैयाबाबुहुकन्, आपन पह्राइह निरन्तरता डिहकलाग उहाँ सक्कुजहन अर्जि कर्ल बाट । चौधरीसे यिह समसामयिक विषयम करल बातचिट प्रस्तुट बा ।

चूर्णबहादुर चौधरी
कन्द्रीय कोषाध्यक्ष , थारु कल्याणकारिणी सभा
एवं कार्यकारी निर्देशक , वेस नेपाल

आजकाल अप्न कौन किताब पह्रटि बाटि ?
आजकल मई थारु चिनारी व गुर्वावक जल्मौटी किताव पह्रटि बाटु । यि किताव भगवती प्रसाद चौधरी लिख्ल वटाँ याकर सँगसँग मइ सप्तरी जिल्लाके वालेश्वर चौधरीके लिखल नेपाली भाषाम तर धर्म योग किताव पह्र्टु । भर्खर प्रकाशन हुइलक दुर्गा सुवेदीक लिखल विमान विद्रोह फे पह्र् शुरु कर्लवटु ।

अप्नह खास कसिन किताब मन पर्ठा ?
आपन थारु जातके बारेम प्रकासन हुइलक खोजमुलक व अनुसन्धान मूलक किताव, सँस्कृति व सभ्यता बारे जानकारी मुलक किताव ओ विकासके सवालमा लिखल किताव मन परठ साथसाथै राजनीतिक लेख रचना व राजनीतिक विश्लेषणात्मक लेख पहर्ना मन परठ् ।

थारु भाषक किताब कत्रा पहर्ठि ?
उपलव्ध हुइट सम्म किनक फे पहर्ठु । भर्खर जो थारु चिनारी व गुर्वावक जल्मौटी भगवती प्रसाद चौधरीके लिखल व धर्मयोग (सँस्कृति बारे) किताव बालेश्वर चौधरी जी के लिखल पोष्टा पहर्टी बटु ।

अप्नक विचारम आम पाठकहुकनके पहर्ना लायक किताब बनाइलाग कसिन खालके थारु भाषक किताब हुइ पर्ना जसिन लागट ?
थारु भाषक लिपि, नेपाली भाषा व हिन्दी भाषाके लिपि एक्क रहल वर्से थारु भाषाह प्रवर्धन कर्ना अवसर बरा बा । खास कैख दङ्गाहा भाषा कपिलवस्तु, दाङ्ग, बाँके, बर्दिया, कैलाली व कञ्चनपुर जिल्लाक थारुहुक्र ढेर बाट् । म्वार सल्लाह दङ्गाहा लवज अइना थारु भाषाके लेख रचना व किताव बनइलेसे मजा हुइ कना जैसीन लागट् । याकर सँग सँग पुरुव होरफे थारु भाषाके लवज फरक बा व राना थारु व देसउरे थारु के आपन भाषाके लवज वटन तर राना थारु व डेसउरे थारु साँख्यक हिसावले कम वट ।

थारु भाषाके लिपी निहोख पाछक समयम निक्रना थारु भाषक पोष्टाम ठेट थारु शब्द निभेट जैना ओ पह्रबेर ओत्रा लस्गर रस नै पाजैट कैख गैरथारुन्ह्क मुहसे जो सुनमिल्ठा, का यि जात्तिक हो त ?
मै पहिल ट गैर थारुके वाटसे फेन थारु जातक पह्रल व्यक्ति हुक्र आपन भाषा वेल्स परल । भाषा जत्रा वेल्सवी वत्रा निखार व् सरलता सँग सँग अपनत्व हुइटी जाइट । द्धासर वाट नेपाली व हिन्दी लिपि एक्क रहल अवस्थाम गैर थारु हुक्र शिलसिलेवार (वा पैधार मिलाख) नि पह्र सेक्लसे फे थारु भाषा म लिखल समाचार व पोष्टा, किताव पह्र सेक्ठ कना विश्वास कर सेकजाइ उहफे थारु भाषाम आपन लिपि बा कलसे अनुसन्धान करखे प्रवद्र्धन करना जरुरी बा व यि जिम्मा थारु बिज्ञ वा बिद्धान हुंकनके कन्ढेम बा । थारु भाषाके ठेट थारु शव्द सँकलन कर्ना काम फे जरुरी बा जौन हमार पुरान अथवा बुह्रइल अग्रज हुक्रनके मद्दत लेहे सेकजाइ ।

थारु समुदायके अगुवा सामाजिक अभियन्ता संगसंग थारु कल्याणकारिणी सभाके केन्द्रीय कोषाध्यक्ष फे हुइटि । थाकसके केन्द्रीय कोषाध्यक्ष हैसियतले थारु भाषाके लिपी बनाइलाग कुछु भुमिका खेल्ल बाटि की ?
मै एकठो थारु परिवारमे जन्मल सदस्य हुइलक वरसे थारु भाषा व आपन घरम वेल्सना प्रथम भाषाके मैया मन्ना स्वभाविक हो जौन महन्वपूर्ण पक्ष फे हो । जव आपन आपन घरम वोल्ना प्रथम भाषा म कौनो जिच सिख्ना मौका पैवी त सरल व लम्वा समय सम्म दिमागम ढर सेक्वी उहमार स्याकक्सम सिख्ना व पहर्ना समय हम्र आपन छाइ छावन शुरुके कक्षाम सिखाइवेर आपन घरम वोल्ना भाषाम सिख्लसे प्रभावकारी सिकाइ हुइ । आपन थारु भाषाके लाग मै पहिल पटक बेस सँस्था म शिक्षा सँयोजक क रुपमा काम करवेर थारु शव्द सँग्रह (थारु से अँग्रजी) प्रकाशन करेक लाग पहल कैख थारु सँस्कृतिविद अशोक थारु , कृष्ण राज सर्वाहारी व कविलबस्तु के वम बहादुर थारु लगायत थारु समुदाय के अन्य विज्ञ बुह्राइल मनैनके सहयोग म थारु शव्द सँग्रह प्रकाशन कर्ना म नेतृत्वदायी भुमिका कइगील । बेसक प्रौढ कक्षाम पढाइक लाग खास कैख दाङ, बाँके, बर्दिया, कैलाली व कञ्चनपुर जिल्लाह ख्याल कैख नेपाली लिपि म तर ढेउर से ढेउर थारु शव्द सँकलन कैख “पश्चिम क फुल” व “शोषण से शिक्षा बर” कना पोष्टा प्रकाशन कैख बेल्सना काम कैगील ।

हमार समुदायक युवायुवतिहुक्र पह्रटि–पह्रटि विचम पह्राइ छोर्ना कर्टि आइल बाट । ओसिन युवा–युवति ओ उहाँहुकनके अभिभावकहुकन कसिन का कह चहठी ?

पहिला बात त हम्र शिक्षाके महत्व निवुझ सेक्ल हुइटि जसिन लागठ । हम्र शिक्षाके कारणले हमार पुर्खा ओ हम्र कत्रा पाछ पर्लि बाटि कना बात बुझ परल । शिक्षा विना हम्र कौन चिजके काम करसेक्ना असंभब बा । उहमार हम्र पहर्टि रलक भैयाभाबुक्रम जसिकटसिक हुइलसे फे पह्राइम जोर करपरल ओ हमार अभिभाकहुक्र जसिकफे आपन लर्कापर्कन कन्ज्वा–कप्प्वा खाक हुइलसेफे पह्राइ परल । शिक्षाहन पहिला प्राथमिक्ताम ढैक सक्कुजन आपन पह्राइहन निरन्तरता डिह परल ।

अन्तम कुछ कह पर्ना बा की ?
हम्र थारु समुदायहुक्र राजनीति विचार व सिद्धान्तले फरक फरक रलसेफे थारुनक वृहत्तर विकासके लाग स्वच्छ वहस कर्टि आघ वह्रपर्ना पक्ष म आपन सन्देश डेहटुँ । हम्र थारुहुक्र थारुनके वृहत्तर विकासके लाग व थारुन के पहिचान सहितके राजनीति मुद्दाहन थारु समुदाय केल एकल्हे संगठीत होख ध्यार वल नैपुग सेकी । हमार गैर थारु मित्र शक्तिहुकन पहिचान कैख विभिन्न तहम छलफल व वहस कैख थारु जातिनके हित सोच्ना व्यक्तिनक सञ्जाल बनाख आघ वहर्वि ट बलगर शक्ति वन सेकी । एकठो महत्वपूर्ण पक्ष हम्र थारुहुक्र राजनीतिक वहसके बाटम कम उपस्थित हुइना अवस्था देख्ठु । सक्कु नीतिके फे राजनीति सवसे वर्का नीति हो । यि पक्षमा हमार थारु जातिहुकन अग्रसर कराइपर्ना डेख्ठु । विशेषकैख यि यूग सूचना व सञ्चार प्रविधिके यूग हो । संचार व सूचनासे हम्र थारु समुदाय पाछ परलबाटी यि चिजम फे हम्र आघ सरक् लाग सक्कुजन अर्जि करटु ।

दंगीशरण खबर

प्रतिक्रिया दिनुहोस्

संबन्धित समाचार

भर्खरै प्रकासित