समयम विर्वा निपैल सिकलसेल बेरम्यन

 

ग्रमिण महिला उत्थान केन्द्रके आयोजनाम यु.एस.ए. आइ.डि के आर्थिक सहयोग व एफ.एचआइ ३६० के प्राविधिक सहयोग अन्तर्गत पारस्परिक जवाफदेहि परियोजना मार्फत दाङ जिल्लाम शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि व बिपत ब्यबस्थापन संबन्धि राज्यसे कर्लक् ब्यबस्था, सेवा सुबिधाम नागरिकहुकनमके पहुँच बह्रैना व सचेत बनाइकलाग जिल्लाके सरोकारवालाहुकनसे समन्वय तथा सहकार्य कर्टि उ सवालह संबोधनक लाग पारस्परिक जवाफदेहिता परियोजना मार्फत मेरमेह्रक कार्यक्रमम बिषयगत सवालह पैरबी कर्टि आइल बा ।

स्वास्थ्य संबन्धि सवालके पहिचानबारे छलफल व कार्यक्रमवसे घोराही उपमहानगरपालिकाके वाड नं १,२,३ व ४ क समुदायम सिकलसेल एनिमिया बिरामिके उपचारबारे समस्या पहिचान कैगिलक् होे । ग्रामिण महिला उत्थान केन्द्र द्धारा गठन कैगिलक् घोराही ४ लक्ष्मीपुरके स्थानिय सभासे उठागिलक् समस्याह पारसपरिक जवाफदेहिता परियोजना अन्र्तगतक मेरमेह्रिक कार्यक्रम तथा बैठक मार्फत सिकलसेल एनिमियाके बेरेम्यनके लाग औषधि उपचारके ब्यबस्था स्थानिय सरकारसे पहल हुइपर्ना बिषयम नागरिक समाज संस्था, संचार क्षेत्र , स्थानिय सभा व हेड कोलिशनलसे ब्यापक छलफल पाछ घोराही उपमहानगरपालिकासे सिकलसेल बिरामीका लाग निशुल्क रगत डेना व उपचार खर्चक लाग नेपालसरकारसे पहल कैख एक लाखके व्यवस्था कैगिल बा ।

यदपी दाङके सिकलसेल एनिमिया बेरेम्यन समयम वि¥वा (औषधी) निपैलक् गुनासो कर्ल बाट । नियमति रुपम वि¥वा खाइपर्ना हुइलसे फे कबु अस्पतालम वि¥वा निपैना कबु लकडाउनके कारणले नियमति रुपम वि¥वा खाइनिपैलक् आपन नाउ निकना सर्तम दाङ घोराहीके एक सिकलसेल एनिमिया बेरेम्या कल । ‘डक्टर्वन सिकलसेल एनिमिया बेरेम्यन नियमित वि¥वा खाइपर्ना कठ, उहाँकल, तर हम्र समयम वि¥वा जो निपैटि अनि कसिख नियमित रुपम वि¥वा खैना ।’ सरकारसे हमार जसिन सिकलसेल एनिमिया बेरेम्यनके लाग निशुल्क वि¥वा कर्ना कैख अस्पतालम पैसा डिहल बा तर, उह अस्पतालमसे वि¥वा मिल्ना मुश्किल परठा । ओस्टक उह ठाउँके सिकलसे एनिमिया बेरेम्या फे आपन जसिन बेरेम्यनके लाग सरकारसे सहज रुपम वि¥वा उपलब्ध कराइपर्ना बटोइल । ‘एक त हम्र सिकलसेल एनिमिया पीडित बाटी, उहिम वि¥वाके निपैलक् कारणले हमार ज्यान जोखिम हुइलकओर्से सरकारसे हमार जसिन सिकलसेल बेरेम्यनकेलाग विशेष ध्यान डिहपर्ठा, उहाँकल ।’

लकडाउनके कारणले सिकलसेल एनिमिया बेरेम्यन वि¥वा लिह निअइलक् राप्ती स्वास्थ्य विज्ञापन प्रतिष्ठानसे संचालित सामाजिक सेवा इकाइके एनिमेटेर दिपक केसी बटोइल । लकडाउनसे आघ पहिला सक्कु सिकलसेल बेरेम्यन नियमित रुपम वि¥वा लिह अ‍ैना कर्लसे फे लकडाउन हुइलठेसे कुछ सिकलसेल बेरेम्यन वि¥वा लिह निअइलक केसी बटोइल । ‘कोरोना भाइरसके कारणले विचम कर्रा लकडाउन हुइल तब सिकलसेल बेरेम्यनके समस्या निहोख विश्वके आम मनैन जो समस्या हुइल रह, उहाँकल, (‘उहम झन सड्डभर नियमित रुपम वि¥वा खाइपर्ना सिकलसेल एनिमिया बेरेम्यन झन समस्या हुइलक् अवस्था हो, तर फेन हम्र सिकलसेल एनिमिया बेरेम्यन फोन कैख फे समयम आपन वि¥वा लिह आइक्लाग जानकारी करैना कर्टि आइलबाटी ।’ उहाँके अनुसार राप्ती स्वास्थ्य विज्ञापन प्रतिष्ठानम आब १ सय २० ज नियमित रुपम वि¥वा लैजैना कर्लक बटोइल ।

दाङम १ सय ३०  सिकलसेल एनिमिया बेरेम्यन
राप्ती स्वास्थ्य विज्ञापन प्रतिष्ठान दाङके अनुसार दाङम आब १ सय ३० ज सिकलसेल एनिमिया बेरेम्यन रहल बाट । यि मध्ये १ सय २० जन नियमित रुपम अस्पतालम औषधी लिह अइना कर्लक् राप्ती स्वास्थ्य विज्ञापन प्रतिष्ठानसे संचालित सामाजिक सेवा इकाइके एनिमेटेर दिपक केसी जनैल । औरज फे राप्ती प्रादेशिक अस्पतालम फे वि¥वा लेटि रलक बटोइल । सिकलसेल बेरेम्यन सिकलसेलसे बचकलाग सड्डभर नियमति रुपम वि¥वा खाइपर्ना बटोइल । सरकारसे निशुल्क रुपम डेना हुइलक् ओर्से वि¥वा किन पर्ठा कि कैख वि¥वा निखइना कर्ना निहो, स्याकक्सम कबु फे नि छुटाके सिकलसेल एनिमियाके बेरेम्यन वि¥वा खाइपर्ना बटोइल ।

नगरप्रमुख रक्त संचार स्थपना
ग्रामिण महिला उत्थान केन्द्र दाङसे संचालित सिएस म्याप परियोजना कार्यक्रमके पहलम सिकलसेल बेरेम्यनके लाग घोराही उपमहनगरपालिकाम नगरप्रमुख रक्त संचार स्थापना कैगिल बा । घोराही उपमहानगरपालिकासे आपन नीति कार्यक्रमम सिकसलेस बेरेम्नके लाग निशुल्क रगत डेना उदेश्यले नगरप्रमुम रक्त संचार स्थापना कैगिलक् घोराही उपमहानगरपालिकाके नगरप्रमुख नरुलाल चौधरी बटोइल । ओस्टक सिकलसेल बेरेम्यनके पहिचानके लाग गतबर्ष विभिन्न ठाउँम सिकलसेल परिक्षण फे कैगिलक् बटोइल । ओसहके घोराही उमहानगर स्वास्थ केन्द्रके प्रमुख नारायण घर्ती सिकलसेलके परिक्षण कर्ना तयारी रलसेफे कोरोना भाइरसके कारणनले अखिस कहल समयम सिकलसेल एनिमयाके परिक्षण करनिसेक्लक बटोइल । सिकलसेल एनिमिया बेरेम्यनके लाग सरकारसे एक लाख बराबरके निशुल्क उपचारम सहयोग कर्टि अइलक् घर्ती बटोइल । यी रोग गंभिर रोग हुइलक्ओर्से सरकारसे उपचारके लाग निशुल्क व्यवस्था कर्लक उहाँ बटोइल ।

सिकलसेल एनिमियाके लाग निशुल्क रगत
सिकलसेल एनिमिया रोगकके १० जन बेरेम्यन नगरप्रमुख रक्त संचार केन्द्रमसे निशुल्क रगत लेटिरलक रक्त सञ्चार केन्द्र घोराहीके इञ्चार्ज दिलीप न्यौपोने बटोइल । ग्रामिण महिला उत्थान केन्द्र दाङसे संचालित सिएस म्याप परियोजना कार्यक्रमके पहलम सिकलसेल बेरेम्यनके लाग घोराही उपमहनगरपालिकाम नगरप्रमुख रक्त संचार स्थापना कैखि निशुल्क रगत डेना व्यवस्था करल बा । घोराही उपमहानगरपालिका नगरभिट्टरके सिकलसे बेरेम्यनके लाग निशुल्क रगत डेना व्ययवस्था हुइलकओर्से उहाहुकन निशुल्क रगत डेटि अइलक बटोइल । घोराही नगरपालिका बहारके सिकलसेल बेरेम्यनभर एक पोकके एक हजार रुप्या लेना कर्लक न्यौपाने जनैल । उहाँके अनुसार साप्ताहिक रुपम सिकलसेल बेरेम्यन रगत लेटी आइल बाट ।

थारु समुायमकेल सिकलसे लग्ना कना भम्र हो
थारु समुायमकेल सिकलसे लग्ना कना बात गलत रलक घोराही उपमहानगरपालिकाके नगरप्रमुख नरुलाल चौधरी बटोइल । यी रोग वंशजके आधारम लग्ठा कना बात पत्ता हुइल बा । तर, कौन समुदाय, कौन जातिक मनै लग्ना कना आम्हिन प्रष्ट निहो । स्वभाविकरुपम तराईके जिल्लाम थारु समुदायह बहुट सिकलसेल लागल डेख परलह हुइ तर, और समुदायके मनैन चेक करल बा की निहो, उफे ह्यार पर्ना जरुर रलक चौधरी बटोइल । गइल बर्ष सिकलसेल गैरथारु हुकन फे डेख परल । पहाडम बैस्ना मगर, दलित हुकनफे त सिकलसेल डेख परल कना खबर हम्र पैली । आब फे राप्ती स्वास्थ्य विज्ञापन प्रतिष्ठानम और समुदायके मनै फे सिकलसेलके बेरेम्यन वि¥वा खैटि बाट ।

का हो सिकलसेल रोग
सिकलसेल एनिमिया एक प्रकारक बँशाणुगत रोग हो । नेपालम यी रोग ह हँसिया रक्तकोष रोग कैख चिन जा जाईट । बँशाणुगत ओ जिनसे सम्बन्धित रोग डाई बाबान्से लर्कावनम हुईना हुईठा । यी सरुवा रोग नि होक, बँशाणुगत रुपम डाई बाबानमसे लर्कावनम पुग्ठा । नेपालम ढ्यार मनै यी रोग लागल रलक सम्भाबना रलसेफे ढ्यार मनै यी रोगक बारेम आम्हिनसम आबश्यक जानकारी नि पाईल हुईट । नेपालम ८÷९ वर्ष आघ यी रोग डेखा परल रह । यी रोगक पत्ता लगुईया डक्टरुवा राजन पाण्डे हुईट । शुरुक अध्ययनम यी रोग नेपालक थारु जातिनम लागल हुँकाहार सोधम डेखा गैल रह । थारुहुँक्र धर्ति पुत्र हुईट । पहिल थारुहुँक्र बन्वाँ फँर्ल, मच्छर किटपटिङ्गसे कट्वा पैल, उपचार नि पैल, रोग पचैटि गैल व उह रोग सिकल सेल रोगक रुपम बिकाश लिहल कना गलत धारणा व थारुहुँक्र सुरिक सिकार खैठ उहमार असिन सोग लग्लिन कना गलत धारणा फे समाजम फ जईठा तर यी सक्कु बातमन सत्यता नि हो ।

उहफे बिशेष कैख थारु जातिनम देखपर्लक यि रोग आजकाल और जातिन मफे देखा पर्टि बा । दाङ्गम करगैलक एक परिक्षणम यी रोग ढ्यार जैसिन थारु जातिनम डेख पर्लसेफे, परियार, मगर मफे डेख परल बा । यी रोग लागल बेरम्या हुकन सक्रमणसे बचक लाग ओ दुखाईसे बचक लाग बिरुवा खाई पर्ना आबश्यक रठा । यी रोगसे संक्रमित बिरम्या कत्राजे बाट कना एकिन तथ्याङ्गक नि रलसेफे यी रोग ढ्यार जाहानम रह सेक्ना एक अध्ययनम पागैल बा ।

कसिक लागट सिकलसे
सिकलसेल एनिमिया (हँसिया रक्तकोष) रोग पारिवारिक रुपम आघ बहर्ठा । का करकि यी मानब शरिरम रहल जिनके कारणसे हुईट । जिन कलक शिरिरम रहल एकठो असिन तत्व हो जुन बँशाणुगत गुण, शारिरक बनावट,आँखके रङ्ग ओ ढ्यार जिजक निर्धारण ओ नियन्त्रण करट । हँसिया रक्तकोष रोग ढ्यार प्रकारक बा, यि रोगक सब्से जोखिम अबस्थम कलक हँसिया रक्तकोष रोगके कारण मानब शरिरम हुईना रगतके कमि हो । ढ्यार मनैनम यी रोग लागल रलसेफे निडेख पर्ठन तर हुँक्र यी रोगक बाहक रठ । बाहक कलक हुँकहनके म यि रोगक जिन रठिन ओ पाछ लर्कावनम डेख पर्ठन ।

यदि ठरुवा ओ जन्निकम डुनु किसिमक जिन बाटिन अर्थाट जिन (क) जुन असामान्य अर्थात हँसिया रक्तकोष बनाईट ओ जन्निकम जिन (ख) अर्थात अर्थात रक्तकोष बनाईट कलसे उ डुनु ठरुवा ओ जन्नि ह बाहक क जाईठ । लर्का बच्चन तब केल हँसिया रक्तकोष रोग लग्ठिन जब हुक्र डाई बाबा डुनु जाहनसे असामान्य (क) प्रकारक जिन पैईठ । यदि डाई ओ बाबा डुनु जान्ह हँसिया रक्तकोष रोगक बाहकबाट कलसे या त हँसिया रोगी, या बाहक या स्वस्थ जन्म सेक्ठ । उ बच्चाम किउ बाहक बाट कलसे समान्यतया बच्चा स्वस्ठ रठ उह किहु किहु भर, पिडा संक्रमण या उर लक्ष्यण डेख पर्ठ । तर हुँकहनके बच्चनम भर रोग पुग सेक्ठन ।

सिकलसेलके लक्षण
सिकलसेल एनिमिया (हँसिया रक्तकोष) रोग लग्लसे झट झट थकाई लाग्न, सास फेर्ना गाह्रो हुइना, छाती बठैना, छाती, प्याट हात ग्वारा ढाडम अचानक कर्रख बठैना, कमलपित्त हुइना, आँखिम समस्या अइना, अन्धोपना हुइसेक्ना, पक्षघात हुइसेक्ना जसिन लक्षण डेखा पर्ठा । ओस्टक संक्रमण हुइटि रना, जर अइना, वाकवाक लग्ना, उल्टी हुइना, खोकी लग्ना जसिन लक्षण डेखा पर्ठा । यी लक्षण डेखपर्लसे झटह स्वास्थ्य संस्थाम स्वास्थ्य परिक्षण करपर्ठा ।

सिकलसेलसे बचकलाग यी बातम ध्यान डिह पर्ठा

-संक्रमण विरुद्ध खोप लगाउने

– आँखिक नियमित परीक्षण कर्ना,
– रक्त अल्पतालके वि¥वा (उपचार) करैना,
– स्वास्थ्यकर्मीके सल्लाह अनुसार
– नियमित वि¥वा (औषधि) खैना,
– स्वास्थ्यकर्मीके सल्लाह अनुसार नियमित रुपम रगत चह्रैना,
– पानी प्रशस्त्र मात्राम पिना,
– बहुट तनाब व चिन्ता निकर्ना,
– सुर्तीजन्य पदार्थ तथा मदिरापान निखैना
– डक्ट¥वनसे निमिमित सम्पर्कम रना व सम्पर्कम रना व
-डक्ट¥वनके सल्लाह अनुसार निमियत औषधि खैलसे बचसेक्जैठा ।
अग्रासन साप्ताहिकमसे साभार

दंगीशरण खबर

प्रतिक्रिया दिनुहोस्

संबन्धित समाचार

भर्खरै प्रकासित