ज्वान लौव अग्रासनहन डन्डुर उक्वार भ्याँट

लौव अग्रासन कट्ठ्युक सिर्जनशील ओ जंग्रार पत्रकार जर्माइल कैक झाँकह्यारबेर लम्मा सूची बन सेक्ना डेख्ठुँ । बाह्र बरसम लौव अग्रासनक राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक ओ सांस्कृतिक प्रभाव कसिन रहल कैक अध्ययन कर्लसे यी विषय स्नातक, स्नातकोत्तर, एमफिल ओ विद्यावारिधीक शोधके खनगर विषय बनस्याकठ । आब, लौव अग्रासन बगाल आपन विषयम अध्ययन कर्ना, कलेज, विश्वविद्यालयके विद्यार्थी ओ स्वतन्त्र अनुसनधान कर्ताहुकहन् आकार्षित कर पर्ना ब्याला आस्याकल । बैतनिक ओ स्वयंसेवी अनुसन्धानकर्ताके सूची बनाक सहजीकरण कर्लसे यि कामकर्ना ओट्रा कठिन निहो । लौव अग्रासन थारु भाषा, साहित्य ओ संस्कृतिक ठुम्रार पोथी हो ।


सुशील चौधरी

प्रकृति परिवर्तनशील बा । परिवर्तनके नियम बाहेक प्रकृति ओ संस्कृति सक्कु परिवर्तनशील बा । समयक मट्वा नाघल कलसे डिन ढर्टिम सम्याइठ । समय काल हो, ट्वाकल समय ओ पलम आँटल काम निकर्बो ट समय बिट्जाइठ, समय विट्ना कलक् जो मृत्यु अर्थात मुना हो । उहमार हमार पुर्खा ओ समयहन काल कलक् हुइही । थारु भाषाम गइल दिनहन ओ अइना दिनहन केल काल कैजाइठ । असिन काकर कैगिलहुइ ट कैक मनम विचार डोलाइबेर मही कसिन लागठ कि गइल काल गइगिल का आस कर्ना हो ? अइना दिनक कालहनक का भरोसा ? उहमार आझुक दिनहन महत्व डेना हुइलक ओर्से हो कि ट ? थारु समाज गइलदिनके गहन समीक्षा कर्ना ओ अइना दिनके योजना बनैना सेफे वर्तमानम रमझम म फँसल डेखपरठ ।

ओसिन ट थारु समाज ओ संस्कृति ओसिन निहो । हर बरस माघी डेवानी कैक वरस भरिक समीक्षा कर्ना ओ लौव योजना बनैना चलन बा । कम्तीम एक बरसक योजना बनैना चलन बा । जौन प्रचलन आजसम फे बरकरार जो बा । अग्रासन लम्मा सुदुर गोरपासुकलाग सावाढानीकलाग खर्चीपर्ची भर्वा बनाए, सबसे पहिल शुभकामना डिह चाहटुँ । ज्वान लौव अग्रासनहन डन्डुर उक्वारभ्याँट । आज आधुनिक शिक्षा प्रणालीले दिक्षित हुइटी गइलक थारु समाज योजनावद्ध विकासक शैली ओ अभ्यासक प्रभावम पर्टी बा । हुइना फे समकालीन समाजक शैली ओ रणनीति निपक्रलसे औस समाज ओ समुदायसे पछ्गुर जैना रलक बाट, घाम जस्ट छर्लंग बा । नेपालगन्जसे २०६० सालम अग्रासन मासिक पत्रिका म्वार अध्यक्षता ओ श्रीराम चौधरीक प्रधानसम्पादकत्व ओ कृष्ण सर्वहारीक कार्यकारी सम्पादकत्वम ओ एकराज चौधरीक व्यवस्थाकत्वम सुरु हुइल रहल । आज अठार बरस होस्याकल ।

मै आज पूर्णकालीन भलमन लेखनम बाटुँ, श्रीराम जी थारु उपन्यासकार ओ अनुसन्धनकर्ता ओ कानुन व्यवसायीक रुपम स्थापित बाट । कृष्ण सर्वहारी पत्रकारिताके शिखरम बाट ओ विद्यावारिधी फे कैसेक्ल । एकराज चौधरी गुर्वावा एफ.एम खोल्क तहल्का पिट्टिबाट । लौव अग्रासन अप्नहे प्रेस काउन्सिलके ग वर्गक पत्रिकाके रुपम वर्गीकरणम परस्याकल बा । २०६४ अगहन (मंसिर) २५ गते जिल्ला प्रशासनमा दर्ता होख जर्मलक लौव अग्रासन सन्तोष दहित प्रकाशके प्रकाशनम ओ के.वी भाईक प्रधान सम्पादकत्वम निरन्तर निक्रटी आइल बा । लौव अग्रासन साप्ताहिक पत्रिका दाङके केल नाहोक थारु भाषक लग्ढार निक्रना नेपालके एकठो पत्रिकाके पहिचान बनैल बा । प्रधानसम्पादक के.वीभाई उपप्रध्यापक होसेक्ल । सन्तोष भाई थारु पत्रकार संघके राष्टिूय अध्यक्ष बाट, आब्ब । लौव अग्रासन कट्ठ्युक सिर्जनशील ओ जंग्रार पत्रकार जर्माइल कैक झाँकह्यारबेर लम्मा सूची बन सेक्ना डेख्ठुँ । बाह्र बरसम लौव अग्रासनक राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक ओ सांस्कृतिक प्रभाव कसिन रहल कैक अध्ययन कर्लसे यी विषय स्नातक, स्नातकोत्तर, एमफिल ओ विद्यावारिधीक शोधके खनगर विषय बनस्याकठ । आब, लौव अग्रासन बगाल आपन विषयम अध्ययन कर्ना, कलेज, विश्वविद्यालयके विद्यार्थी ओ स्वतन्त्र अनुसनधान कर्ताहुकहन् आकार्षित कर पर्ना ब्याला आस्याकल । बैतनिक ओ स्वयंसेवी अनुसन्धानकर्ताके सूची बनाक सहजीकरण कर्लसे यि कामकर्ना ओट्रा कठिन निहो ।

लौव अग्रासन थारु भाषा, साहित्य ओ संस्कृतिक ठुम्रार पोथी हो । उहमार हरेक साल ढुइन्यासी जसिन पोस्टा निकर्ना योजना हुइ परल । प्रविधिके विकास आमसंचारके चरित्र ओ शैलीम आनके तान बदलाव आस्याकल । आब, अनलाइन, सामाजिक संजालबिना प्रिन्ट मिडिया प्रभावकारी निहुइना बाट आम रुपम स्वीकार कैसेक्गिल बा । लौव अग्रसान अम्हिन फे परम्परागत शैलीम चलल बा । उहमार, अनलाइन सेवा थप कर कर्ना चुनौती हमार आघ बा । पक्क फे बगाल यि विषयम गम्हिर होक योजना बनैटी हुइ । लौव अग्रासन व्यक्तिगत रुपम दर्ता हुइलसेफे सामूहीक प्रयासले सुरु कैगिलक काम रह । याकर उत्पत्ति ओ विकासम ढ्याउर जन्हक योगदान बा । डेड दसकलम्मा समयसम पत्रकारिताके चुनौतीपूर्ण गोरपासु कैस्याकल लौव अग्रासन आब, प्रा.ली. जसिन संस्थागत संरचनाम जाक पूर्ण व्यावसायिक व्यवस्थापन सहित आघ जैना योजनाम जइना आवश्यक होस्याकल बा । पत्रिकाके व्यावसायिक संचालनक लाग आपन प्रेस फे होडेलसे सुनम सुगन्ध हुइठ । प्रेस काउन्सिल मसे सहुसलयत रिन मिलठ कना सुन्लबाटुँ । उप्रक्रियाम हम्र काकर निजैना ।

अस्टहक, पत्रिककके भवन बनैना सहयोग जुटैना फे पहल कर परल । थारु पत्रिकारिताहन बैकल्पिक धारक रुपम विकास करक्लाग याकर रणनैतिक योजना बनाक काम करसेक्लसे लौव अग्रासन लौव लौव लौझीक झमकी उराए स्याकी कना महि लागठ । लौव अग्रासन मिसन पत्रकारित का हो । उहमार लौव अग्रासनक दुरदृष्टि, मिसन ओ लक्ष्य सुनिश्चित कर्ना जरुरत बा । म्वार विचारम लौव अग्रासन समाजम बहटी रहल असिन लाउ हो जे थारु भाषा, ओ साहित्यके बहला चलाक थारु समाजक पहिचान, प्रतिनिधित्व ओ प्रतिष्ठाक संगसंग संवृद्धिक घट्वाम उटर्ना जिम्मेवारी लेल बा । याकरलाग घटोर्याहन महाजंग्रार चम्पन ओ चैनार हुइना आवश्यक बा । याकरलाग अग्रासनक हिरगर अग्रासन हुइक परी । “मन मन गिटवार कौन, सुट्ल सुट्ल जगवार कौन” कना पुर्खन्हक आहानहन चरितार्थ कर्नाम जंग्रार गरढुर्याइ कर, जनतन सूचना ओ संचारके गुडगर अग्रासनक पहुँरा पुगैटी रह, लौव लौव रंगिन पख्ना जम्टि रह, पत्रकारिताके निल गगनम विचरण करकलाग अग्रसान हन । लौव अग्रासन बगाल, शुभकामना ओ शुभार्शिवाद बा ।

जय गुर्वावा ।
लेखक् अग्रासनके संरक्षक हुइट ।

दंगीशरण खबर

प्रतिक्रिया दिनुहोस्

संबन्धित समाचार

भर्खरै प्रकासित