थारु भाषा मानकताके बहस

के.वि. चाैधरी

समाज विकासके क्रमसंग भाषा विकास हुइटि आइल बा । विकासके सक्कु पक्षहँ स्पष्ट बट्वाइबेर लौव–लौव शब्द बेलस्जैठा । आधुनिक परिवर्तन हर समाजम अइना विषय हो । याकर संगसंग भाषम फे लौव चलन आइसेक्ठा । वसिन त आब विश्वव्यापिकरणके प्रभाव बा । हमार सामाजिक, साँस्कृतिक, आर्थिक पक्ष प्रत्यक्षरुपम प्रभावित हुइल बा । समय अनुसार चलफे परल नै ट पछ्गुर्ना संभावना फे रना हुइल । कि ट समयहँ आपन नियन्त्रणम ढर स्याक परल । आबक स्थितिम थारु भाषाहँ बेलस्क हम्र हमार सामाजिक–साँस्कृतिक पहिचान बचइनाकेल नाही याकर माध्यमसे हम्र देशभर एक्ठो शक्तिके रुपम आइपर्ना आवश्यक्ता बा । वाकरलाग थारु मानक भाषा बनाइपर्ना आवश्यक्ता हुइल हो कनाअस् लागठ ।

मानक भाषा बनाइकलाग् झापासे कञ्चनपुरसमके थारु भाषाम रहल विविधताहँ पहिचान कैख साझा मान्यता स्थापित कर पर्ना बा । चाहे मोरङ्या ह्वाय वा सप्तरीया, चितवनिया ह्वाए चाहे नवलपुरिया, डगौंरा ह्वाए चाहे डेसवरीया सक्कु शैली हमार थारु समाजके सम्पत्ति ओ धरोहर हो । हम्र सक्कु ठाउँक मान्यताहँ कदर ओ सम्मान कर्टि साझा मान्यता ख्वाज पर्ना जरुरी बा । खास कैख नाउ, ठाउँ, चिज जनैना शब्द प्रयायबाची शब्दके रुपम ढरी । वस्टक विशेषण, संयोजक लगायत वाक्य प्रयोग हुइना सक्कु मेह्रिक शब्द फे प्रयायबाची बनाख क्रियापदह भर छलफलके विषय बनाख मानकताम पुग सेक्ना स्थिति बा । आँब हम्र वर्ण पहिचानम अँटकल अवस्था बा ।

भाषाहँ समृद्ध ओ ब्यापक बनाइकलाग आगन्तुक शब्द बेल्सपर्ना हुइलमार फे देवनागिरी लिपीम प्रयोग हुइल सक्कु वर्ण प्रयोग हुइल स्थिति बा ओ असिक गैलसे भाषा सरल, सहज ओ फर्छवार हुइसेक्ठा । आब मानकताके विषयम चलल बहस ह्यारबेर एक्ठो समुह थारु समाजके पुर्खन ओ पूर्वज हुकन्हक् आधार मन्ना कैख प्राचिन थारु भाषहँ प्रयोगम लन्ना मेह्रिक बात् बट्वइटी बट । भाषाह फे हम्र प्राचिन, मध्यकाल, आधुनिककाल ओ आम्हि उत्तर आधुनिकता ओ कम्प्युटर मानवके समयसे जोर्ख विश्लेषण कर पर्ठा कना विषय महत्वपूर्ण बा । आबक समयम भाषाके प्रयोगले हम्र शक्तिके परिचालन समेत करपर्ना हुइलमार भाषाके असिमित संभावनाहँ सड्ड खुल्ला करपर्ना जरुरी बा ।


वराइबेर मानकताके बहसम क्षेत्रियतावाद ओ आपन अनुकुलताकेल ध्यान डेना हो कलसे हम्र भारी अवसरहँ भुर्याइ सेक्ठी । खुल्ला बहस ओ समझदारी आझुक आवश्यक्ता बा ।

जय गुर्वावा !
(भदौं १६ गतेको लौव अग्रासन साप्ताहिकमा प्रकाशन गरिएको सम्पादकीयबाट )

दंगीशरण खबर

प्रतिक्रिया दिनुहोस्

भर्खरै प्रकासित